सर्दियों के मौसम में बच्चो की देखभाल कैसे करे | How to Take Care of Baby in Winter

1

सर्दि के मौसम की शुरुवात हो चुकी है, हम सभी पूरी तरह से स्वेटर, ऊनि टोपी, मोज़े और दस्ताने पहने हुए है। आज के लेख में सर्दियों के मौसम में बच्चो की देखभाल करने के कुछ उपाय – How to Take Care of Baby in Winter दिए गये है।

सर्दियों के मौसम में बच्चो की देखभाल कैसे करे – How to Take Care of Baby in Winter
How to Take Care of Baby in Winter

आइये उन उपायों के बारे में जानते है :

1. घर के बाहर :

सर्दियों के मौसम में अपने शिशु के साथ बाहर जाते समय मोज़े, दस्ताने और टोपियो का उपयोग करे, ताकि वह उन्हें ठण्डी हवा से बचा सके।

बाहर जाने के बाद समय-समय पर अपने शिशु के शरीर के तापमान की जाँच करने बहुत जरुरी है, शिशु के पैर की उंगलियों और पेट को स्पर्श कर आप उसके शरीर के तापमान की जाँच कर सकते हो। अक्सर नवजात शिशु के पैरो की उँगलियाँ थोड़ी ठण्डी और पेट हल्का गर्म होता है।

यदि पेट भी ठण्डा हो तो आपका शिशु अपने शरीर को गर्म करने की कड़ी कोशिश कर रहा है। यदि पेट और पैर की उँगलियाँ दोनों गर्म हो तो आपके शिशु के शरीर का तापमान बहुत ज्यादा है।

2. कपडे :

अपने बच्चो को हल्के, ढीले कॉटन के पकडे पहनाये। जरुरत पड़ने पर आप ऊनि कपड़ो का भी उपयोग कर सकते हो।

अपने बच्चो को पूरी तरह से कपड़ो में ना लिपटे, क्योकि इससे अधिक गर्मी हो सकती है।

3. बिस्तर :

नवजात शिशु के बिस्तर के लिए कॉटन या मैरिनो का ही उपयोग करे। नवजात शिशु के बिस्तर के लिए प्राकृतिक फाइबर एक उत्तम उपाय है।

एक ही भारी-भरकम ब्लैंकेट की बजाए, 2-3 छोटे-छोटे ब्लैंकेटो का उपयोग करे। इससे आपको नवजात शिशु के शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में आसानी होंगी और साथ ही धोते समय भी आसानी होंगी।

4. स्तनपान :

नवजात शिशु अपने शरीर की गर्मी को तेजी से खोते जाते है, क्योकि वे युवाओ की तरह गर्मी विकसित नही कर पाते, क्योकि शिशुओ की मांसपेशियां छोटी होती है।
शिशुओ को हाइड्रेट रखने के लिए सर्दी के मौसम में समय-समय पर उसे स्तनपान कराते रहे। साथ ही अपने शरीर की गर्मी भी आपके शिशु के लिए लाभदायक होती है।

5. मसाज और स्नान :

सर्दी के मौसम में नहाने से पहले शिशु के शरीर की सरसों के तेल, नारियल के तेल, बादाम के तेल, ओलिव ऑइल या अपने पसंदीदा तेल से मालिश / मसाज जरुर कर ले। लेकिन इनमे से सर्दियो के मौसम में सरसों के तेल आपके शिशु के शरीर के लिए सर्वोत्तम है।

सर्दी के मौसम में ज्यादा स्नान ना करे और ना ही शिशु को ज्यादा देर तक स्नान टब में रहने दे। केवल हल्के गर्म पानी से अपने नवजात शिशु को स्नान करवाए।

6. नाखुनो की छटनी :

सर्दियों में ठण्डी हवा से आपके शिशु के शरीर में जलन की समस्या हो सकती है।
त्वचा में चकत्ते होने से बचने के लिए शिशु के नाख़ून की छटनी समय-समय पर होती रहे। नहाने के तुरंत बाद या उनके सोने के बाद आप आसानी से उनके नाखुनो की छटनी कर सकते हो।

7. अच्छी स्वच्छता :

बचपन से ही अपने शिशुओ को स्वच्छा रखा सिखाये और उनके शरीर को भी स्वच्छा रखे, ताकि वे विविध संक्रमित बीमारियों से बचे रहे।

8. हमेशा अपने साथ थर्मामीटर रखे :

अपने शिशु के शरीर का तापमान समय-समय पर देखने के लिए, हमेशा अपने साथ थर्मामीटर रखे।

9. शिशु के कपड़ो की प्रेस करना :

सर्दी के मौसम में अलमारी में रखे गये कपडे काफी ठण्डे होते है। यदि आपको समय मिले तो अपने शिशु के कपड़ो को उन्हें पहनाने से पहले प्रेस जरुर कर ले।
यदि आप ठण्ड प्रदेश में रहते हो तो आपको अपने शिशु के कपड़ो को वार्म रेडियेटर में जरुर रखे।

10. शिशु के आहार में सूप शामिल करे :

सर्दी के मौसम में गर्मा-गरम सूप के कप से बेहतर डिश और क्या होंगी।
यदि आपका शिशु नौ माह या उससे ज्यादा बड़ा है तो आप उसे चिकन सूप या गर्म सब्जियों से बजे सूप का सेवन करा सकते हो। जो आपके नवजात शिशु के स्वास्थ के लिए बहुत लाभदायक होता है।

11. अपने नवजात शिशु को सर्दी, कफ और बुखार वाले लोगो से दूर रखे :

सर्दी के मौसम में फैलने वाले सबसे सामान्य बीमारी सर्दी-खासी, बुखार और कफ की समस्या है।

बहुत से बच्चो को बैक्टीरियल इन्फेक्शन की वजह से ही बीमारियाँ होती है। इसीलिए हमेशा ध्यान रहे की अपने शिशु को बीमारी वाले लोगो से दूर रखे।

12. समय-समय पर अपने शिशु का टीकाकरण करवाते रहे :

अपने शिशु को हानिकारक बीमारियों से बचाने के लिए समय-समय पर टीकाकरण करवाना बहुत जरुरी है। इसीलिए समय-समय पर बच्चो के डॉक्टर की सलाह लेकर शिशु का टीकाकरण करवाते रहे।

हम यही आशा करते हैं की यह आर्टिकल आपके लिए लाभदायक साबित हुआ होंगा।

Read More:

अगर आपको हमारा सर्दियों के मौसम में बच्चो की देखभाल कैसे करे – How to Take Care of Baby in Winter लेख अच्छा लगा तो जरुर हमें कमेन्ट के माध्यम से बताएं. और Facebook पर लाइक करके हमसे जुड़ें. धन्यवाद

1 Comment
  1. Virendra maurya says

    mam apne bhut achhe se discribe kiya hai , thank you

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.