गुणकारी बादाम के फायदे | Badam Ke Fayde

1

सदियों से लोग बादाम / Badam का सेवन करते आ रहे है और इसके गुणों की तारीफ करते आ रहे है। और बादाम के फ़ायदे / Badam Ke Fayde भी बहुत हैं । प्राचीन इजिप्तीयन और भारतीय लोग बादाम / Almonds को अपने दैनिक आहार में भी शामिल करते थे। भारतीय प्राचीन आयुर्वेद के अनुसार बादाम दिमाग की स्मरण शक्ति बढ़ाने में भी सहायक है और साथ ही दिमाग की क्षमता और बुद्धिमत्ता बढ़ाने में भी सहायक है।

प्राकृतिक, बिना नमक वाली बादाम स्वादिष्ट और पोषक तत्वों से भरपूर होती है जिससे कई स्वास्थकारी लाभ भी होते है। बादाम मिनरल्स से भरपूर होती है और मेवो में बादाम को सबसे स्वास्थकारी माना गया है। रोज़ एक मुट्ठी बादाम के सेवन से भी आप अपने अपने ह्रदय को स्वस्थ रख सकते हो और बढ़ते वजन को भी रोक सकते हो। इसके साथ ही बादाम डायबिटीज और अल्झाइमर से लढने में भी सहायक है।

गुणकारी बादाम के फायदे / Badam Ke Fayde

benefits of badam

आज, दुनिया के लोग बादाम का उपयोग बहुत से स्वास्थकारी लाभों के लिये करते है लेकिन बादाम से होने वाले दुसरे कई न्यूट्रीशनल फायदे भी है। बादाम का उपयोग अलग-अलग तरीके से किया जाता है, कोई इसे स्वास्थकारी खाद्य पदार्थ के रूप में खाता है, कोई इसे बटर के साथ खाता है और बादाम का दूध पिता है और कोई बादाम का किस बनाकर भी खाता है और कई लोग इसका उपयोग बॉडी लोशन और फ्रिगरैंस के रूप में उपयोग करते है।
बादाम का सबसे लाभदायक गुण यह है की इससे कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित रहता है। लेकिन बादाम से होने वाले कई न्यूट्रीशनल फायदे भी है। बादाम में फैटी एसिड का प्रमाण बहुत कम होता है और इसे फिलिंग फाइबर का प्रमाण ज्यादा होता है।

कभी भी इस डर में ना रहे की बादाम से चर्बी बढती है। बल्कि जब वजन कम करने की बात की जाये तो बादाम निश्चित ही आपके लिये फायदेमंद होंगी, इसमें ज्यादा मात्रा में कैलोरी होने के बावजूद यह वजन कम करने में सहायक है। अभ्यास से तो यह भी पता चला है की बादाम के सेवन से भूक भी कम लगती है और शरीर में भूक की कमी को भी पूरा करती है। जब डाइट करने वाले लोग बादाम का सेवन करते है तो वे एवरेज कैलोरी के लेने के प्रमाण को भी कम करते है।

1. ह्रदय संबंधी बीमारियों और हार्ट अटैक से बचाता है:
बादाम में पाये जाने वाले केमिकल कंपाउंड और एंटीओक्सिडेंट तत्व हमे कार्डियोवैस्कुलर बीमारी से बचाते है। बादाम हमारे शरीर में एंटीओक्सिडेंट तत्वों की कमी को पूरा करता है और बादाम में छिलकों में पाये जाने वाले कंपाउंड भी शरीर में विटामिन E की कमी को पूरा करते है और हमारे शरीर को स्वस्थ रखते है।

बादाम में ह्रदय संबंधी बीमारी और ह्रदय विकार को रोकने के गुण भी होते है। बादाम में अर्गेनिन, मैग्नीशियम, कॉपर, मेगनीज, कैल्शियम और पोटेशियम जैसे तत्व भरपूर मात्रा में होते है। जो कोलेस्ट्रॉल और डायबिटीज के खतरे से शरीर को बचाते है और शरीर को स्वस्थ रखकर उसकी सुरक्षा करते है।

नब्ज की दीवारों में होने वाली हानि को भी बादाम रोकती है और हानिकारक प्लाक के निर्माण को रोकती है। बादाम ब्लडप्रेशर के लेवल को भी नियंत्रित रखती है। इसके साथ ही बादाम वजन को भी कम करने में सहायक है और साथ ही बादाम के सेवन से हार्ट अटैक और ह्रदय संबंधी बीमारियों का खतरा कम होता है।

2. दिमाग की क्रियाशीलता को स्वस्थ रखने में सहायक:
दिमाग के लिये उपयोगी खाद्य सामग्री में बादाम को सर्वश्रेष्ट माना जाता है। बादाम में राइबोफ्लेविन और एल-कार्निटीन जैसे दो महत्वपूर्ण न्यूट्रीशन होते है जो दिमाग की न्यूरोलॉजिकल कार्यविधि को सकारात्मक ढंग से प्रभावित करते है। और यही कारण है की माता-पिता बच्चो और युवाओ को बादाम खाने के लिये को जिद करती है। इसका एक और कारण यह भी है की बादाम के सेवन से डेमेंटिया और अल्झाइमर की समस्या भी नही होती।

3. त्वचा के स्वास्थ को नियंत्रित रखती है:
बादाम में विटामिन E होता है और इसके साथ ही त्वचा के लिये सहायक दुसरे एंटी-ओक्सिडेंट तत्व भी होते है। जिससे त्वचा में बुढ़ापे की समस्या दूर होती है। रिसर्च से यह भी पता चला है की बादाम के न्यूट्रीशन में कैतेचिन, एपिकैतेचिन और फ्लावोनोल और इसके साथ क्युरसेटिन, कैम्प्फेरोल और इसोरहमेंटिन जैसे कंपाउंड होते है जो त्वचा के कैंसर का निर्माण करने वाले हानिकारक विषाणुओं से लढते है। UV लाइट से होने वाले हानिकारक प्रभाव को भी बादाम कम करती है। बादाम त्वचा की हाइड्रेट रखती है।

4. ब्लड शुगर को नियंत्रित रखती है और डायबिटीज से बचाती है:
बादाम MUFA से भरी हुई होती है जो शरीर में ग्लूकोस (शुगर) के निर्माण को धीमा करती है। ब्लड शुगर के खतरे को नियंत्रित करने के साथ-साथ बादाम इन्सुलिन प्रतिरोधक शक्ति को भी नियंत्रित करती है। बादाम डायबिटीज के खतरे को भी कम करती है, अस्वस्थ शरीर के वजन को कम करती है, सुजन और जलन और ऑक्सीकरण की चिंता को भी कम करती है।

5. वजन कम करने में सहायक और ज्यादा खाने को भी नियंत्रित करती है:
बादाम में पाये जाने वाले स्वास्थकारी फेट्स और डाइटरी फाइबर की वजह से आपको वजन कम करने में सहायता मिलती है। सभी मेवो में फैट और कैलोरी की मात्रा ज्यादा होती है इसीलिए उन्हें खाने के बाद आपको तसल्ली मिलती है। और आपका ब्लड शुगर और ब्लडप्रेशर भी नियंत्रित रहता है।

नर्स हेल्थ स्टडी के अनुसार बादाम रसप्रक्रिया को भी सहायता करती है। ऐसे लोग जो अक्सर बादाम का सेवन करते है वे उन लोगो से दिमागी और शारीरक दोनों रूप से स्वस्थ रहते है जो बादाम का सेवन नही करते। दुसरे अभ्यास के अनुसार डाइट करने वालो को रोज़ बादाम का सेवन अवश्य करना चाहिये। इसके दैनिक सेवन से आपका शरीर स्वस्थ और तंदरुस्त रहता है।

उदाहरण के लिये, 2003 में इंटरनेशनल जर्नल ऑफ़ ओबेसिटी ने पाया था की जब महिलाये छः महीने से ज्यादा के समय तक रोज़ बादाम का सेवन करती है तो ऐसी महिलाये जो बादाम का सेवन नही करती उनकी तुलना में बादाम सेवन करने वाली महिलाओ का वजन कम और शरीर भी स्वस्थ रहता है। बादाम का सेवन न करने वाली महिलाओ को कई समस्याए हो सकती है।

6. दाँतो और हड्डियों की मजबूत बनाने में सहायक:
बादाम मिनरल्स और मैग्नीशियम और फॉस्फोरस का अच्छा स्त्रोत है जो शरीर में पोशाक तत्वों का निर्माण करता है और हमारे दाँतो और हड्डियों को भी मजबूत बनाता है। बादाम के पोषक तत्व से संबंधित होने वाले फायदों में यह भी शामिल है। जो हमारे दाँतो को मजबूत बनाता है और कैविटी से लढकर हड्डियों को मजबूत बनाती है।

7. पोषक तत्वों के अवशोषण को बढाती है:
शरीर को चर्बी का अवशोषण करने के लिये पर्याप्त मात्रा में फैट की जरुरत होती है, जैसे विटामिन A और D। बादाम को एक ऐसा मेवा माना जाता है जिससे कई बीमारियाँ दूर होती है तो शरीर का pH स्तर भी नियंत्रित रहता है। शरीर के स्वस्थ रहने के लिये एक स्वस्थ pH स्तर का होना बहुत जरुरी है। इसके साथ ही बादाम में पाये जाने वाले पोषक तत्व भी पाचन तंत्र को सुचारू रूप से चलाने में सहायक है। बादाम में पाये जाने वाले पोषक तत्व कोलेस्ट्रॉल के स्तर को समान रखते है और हानिकारक एसिड के उत्पादन को रोकते है।

8. पाचक स्वास्थ को बढ़ाते है:
स्वस्थ फैट और क्षार के लिये – बादाम का रोज़ सेवन करना बहुत जरुरी है, विशेषतः बादाम का छिलकों का सेवन करना, जिसमे प्रोबायोटिक कंपोनेंट होते है। ये प्रोबायोटिक कंपोनेंट पाचन तंत्र को स्वस्थ रखते है और हानिकारक बैक्टीरिया के विकास को रोकते है। और साथ ही पाचन तंत्र में हुई गड़बड़ी की वजह से शरीर में होने वाली समस्याओ से भी बादाम हमें बचाती है।

अभ्यास से यह पता चला है की बादाम और बादाम का छिलका “इंटेस्टिनल माइक्रोबायोटा प्रोफाइल” को विकसित करता है जिसका अर्थ यह है की बादाम बैक्टीरियल क्रियाओ को नियंत्रित रखती है। बादाम से हमें बहुत से स्वास्थकारी फायदे होते है।

2014 में इंस्टिट्यूट ऑफ़ फ़ूड साइंस & टेक्नोलॉजी इन चाइना में हुए रिसर्च में यह पता चला है की जब महिलाये रोज़ 56 ग्राम बादाम का सेवन 8 हफ्तों तक करती है, तब महिलाओ में लाभदायक बैक्टीरिया का निर्माण होता है, जो उन्हें स्वस्थ और मजबूत बनाता है।

9. कैंसर और सुजन एवं जलन से लढने में सहायक:
बादाम में गामा-टोकोफ़ेरॉल का प्रमाण ज्यादा होता है, जो विटामिन E का ही एक प्रकार है, इसमें ज्यादा मात्रा में एंटीओक्सिडेंट होते है जो शरीर में होने वल्कि चिंता, तनाव, सुजन एवं जलन को दूर करते है और शरीर को कैंसर से भी बचाते है और कैंसर के हानिकारक बैक्टीरिया से लढते है। बहुत से अभ्यासों और रिसर्च से यह सिद्ध हुआ है की बादाम ब्रैस्ट कैंसर, प्रोस्टेट ग्रंथि के कैंसर और मलाशय के कैंसर की समस्या को दूर करती है।

क्या आप जानते हो?
• बादाम का सर्वाधिक उत्पादन यूनाइटेड स्टेट में ही होता है।
• प्राचीन समय से ही इजिप्त से लेकर वर्तमान समय तक बादाम का उपयोग हमेशा से ही खाद्य पदार्थो और सौन्दर्य प्रसाधनो में किया गया है।
• बादाम असल में चेरी, बेर और आडू के जैसा ही एक फल है।

Read More: 

  1. शहद के फायदे
  2. Benefits of Walnuts
  3. Benefits Of Kaju
  4. Benefits of Kismis
  5. Benefits of Anjeer

Note: अगर आपको हमारा गुणकारी बादाम के फायदे / Badam Ke Fayde आर्टिकल अच्छा लगा तो जरुर Facebook पर लाइक करे और हमसे जुड़े रहिये। हम आपके लिए और ऐसे Health Tips लायेंगे।

Please Note: बादाम / Almonds के लिए दी गयी जानकारी को हमने हमारे हिसाब से बताया है।

1 Comment
  1. gyanipandit says

    बादाम यानी Almonds हमेशा से ही सभी फायदेमंद रहा हैं फिर चाहे वो health हो या beauty सभी के लिये.
    I LIKE IT ………

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.