स्वाइन फ्लू के लक्षण | Swine Flu Symptoms

1

Swine Flu Symptoms

स्वाइन फ्लू की बीमारी बहुत ही खतरनाक बीमारी है। यह बीमारी बहुत ही जल्द फ़ैल जाती है। स्वाइन फ्लू की यह जानलेवा बीमारी विषाणु के जरिये फैलती है। इस विषाणु को ‘एच1 एन1’ कहा जाता है। यह विषाणु असल में सूअर में पाए जाते है। सूअर के यह विषाणु किसी इन्सान के संपर्क में आ गए तो उसे भी यह स्वाइन फ्लू होने का खतरा बढ़ जाता है। स्वाइन फ्लू की बीमारी क्या होती है, यह किस वजह से होती है, यह बीमारी होने के बाद इस पर क्या उपचार करना चाहिए, इन सब बातो की सारी जानकरी पुरे विस्तार में निचे दी गयी है।

स्वाइन फ्लू के लक्षण – Swine Flu Symptoms

Swine flu Symptoms

स्वाइन फ्लू क्या है? – What is Swine Flu

स्वाइन फ्लू एक एच1 एन1 विषाणु है जो पुराने इन्फ्लुएंजा विषाणु का नया प्रारूप है जिसके सारे लक्षण फ्लू की तरह ही है। यह विषाणु सूअर में पाया जाता है मगर कोई इन्सान सूअर के संपर्क में आ जाए तो यह बीमारी एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति को हो सकती है।

यह बीमारी सबसे पहले 2009 के सुर्खियों में देखी गयी क्यों तब यह बीमारी इंसानों में फ़ैल चुकी थी और इसे वैश्विक महामारी घोषित कर दिया था। महामारी एक ऐसी बीमारी होतो है जो एक इन्सान से दुसरे व्यक्ति को होती है और यह एक ही समय में पूरी दुनिया में फैल जाती है।

अगस्त 2010 में विश्व स्वास्थ्य संघटन ने इस एच1 एन1 को महामारी घोषित कर दिया था। तब से इस बीमारी के एच1 एन1 विषाणु को स्वाइन फ्लू नाम से जाने लगा। इस बीमारी के विषाणु किसी ना किसी व्यक्ति में आज भी पाए जाते है जिसकी वजह से यह बीमारी फ़ैलती जाती है। इस एच1 एन1 विषाणु को रोकने के लिए रोग नियंत्रण और रोकथान केंद्र पर टिका तयार किया गया है।

फ्लू के अन्य विषाणु की तरह ही एच1 एन1 बहुत ही संक्रामक बीमारी है जो बहुत ही जल्द एक व्यक्ति से दुसरे इन्सान को जल्द ही पकड़ लेती है। अगर इस विषाणु से ग्रसित व्यक्ति छिके तो उसकी वजह से भी इस बीमारी के जंतु हवा में फैल जाते है। इस बीमारी के विषाणु टेबल, दरवाजे पर चिपके रहते है, अगर कोई इन्सान इन वस्तुओ को स्पर्श करे तो उसे भी यह बीमारी हो जाती है।

इस बीमारी पर सबसे अच्छा उपचार यह है की इसपर कैसे प्रतिबन्ध लगाया जाए ताकी यह बीमारी होने से पहले ही रोकी जा सके। इस विषाणु को फैलने से रोकना है तो उसके लिए हातो को नियमति रूप से स्वच्छ रखना बहुत जरुरी है। संक्रमित व्यक्ति से दुरी बनाये रखने से भी इस बीमारी का खतरा बहुत ही कम हो जाता है।

स्वाइन फ्लू के लक्षण – Swine Flu Symptoms

जो लक्षण इन्फ्लुएंजा में पाए जाते वो सभी लक्षण इस स्वाइन फ्लू में भी देखने को मिलते है। इस बीमारी के कुछ महत्वपूर्ण लक्षण निचे दिए गए है।

  • ठंडी लगाना
  • बुखार
  • खासी
  • गले में खराश
  • नाक से नियमित रूप से पानी निकलना
  • शरीर में दर्द होना
  • थकावट
  • डायरिया
  • जी मचलना और उलटी होना

स्वाइन फ्लू से बचने के उपाय – Swine Flu Precautions

बीमारी का उपचार करने से अच्छा है की उसके पहले से ही प्रतिबन्ध करके रखे। हमने पहले ही देखा है किया यह बीमारी किसी व्यक्ति के संपर्क में आने से भी फ़ैल सकती है। मामूली सर्दी होने से बचने के उपाय निचे दिए गए है।

हातो को धोते समय किसी भी साबुन, जेल या किसी बार का इस्तेमाल करके गरम पानी से धोये जाए तो इससे काफी मदत मिलती है।

जीन जगह पर लोग हमेशा हात लगाकर दूषित करते है जैसे की दरवाजे के नॉब, बालकनी में रखी कुर्सिया, कीबोर्ड और माउस को हमेशा साफ़ सुथरा रखे।
छिकते और खासते समय मुह और नाक को ढक ले।

इस्तेमाल की हुई टिप्स ख़राब होने के बाद कचरे के डिब्बे मे डाल दे।

स्वाइन फ्लू का टिका – Swine Flu Vaccine

इस स्वाइन फ्लू बीमारी का टिका साल में एक बार लिया जाए तो एच1 एन1 विषाणु के संक्रमण से बचा जा सकता है।

स्वाइन फ्लू का टिका पतझड़ (सितम्बर से नवम्बर) के समय लेना सही माना जाता है। हर साल इस बीमारी का टिका लेना बेहद जरुरी होता है क्यों की इस बीमारी का विषाणु एक सर्दी के मौसम से दुसरे सर्दी के मौसम में बदल जाता है। इसीलिए साल में एक बार टिका लिया तो इस बीमारी से सुरक्षा हो सकती है।

स्वाइन फ्लू बीमारी के विषाणु सबसे पहले साल 2009 में पाए गए थे। यह बीमारी संक्रामक बीमारी है। इसका मतलब यह है की अगर कोई व्यक्ति किसी इस विषाणु ग्रसित व्यक्ति के संपर्क में आ जाए तो उसे भी स्वाइन फ्लू हो सकता है। इस बीमारी को विश्व स्वास्थ्य संघटन ने भी वैश्विक महामारी घोषित कर दिया है। इस बीमारी के मरीज सारी दुनिया पाए जाते है। हर साल इस बीमारी से बचने के लिए टिका करना बहुत जरुरी है। सितम्बर और नवम्बर के दौरान इस बीमारी का टिका कर लेना चाहिए क्यों की टीकाकरण का यही सबसे अच्छा समय माना जाता है।

Read More:

अगर आपको हमारा स्वाइन फ्लू के लक्षण- Swine Flu Symptoms लेख अच्छा लगा तो जरुर हमें कमेन्ट के माध्यम से बताएं। और Facebook पर लाइक करके हमसे जुड़ें। धन्यवाद

1 Comment
  1. Gyani Pandit says

    स्वाइन फ्लू के बारेंमें बहुत बढ़िया जानकारी दी आपने, बीमारियाँ तो हर जगह होती हैं लेकिन इनसे कैसे बचा जाये ये जानना बहुत जरुरी हैं, और हमारी स्वास्थ की सुरक्षा हमें स्वयं करनी चाहियें.

Leave A Reply

Your email address will not be published.