lifestylehindi Best Website For Hindi Article On LifeStyle

“फलो की रानी” अंगूर से होने वाले फायदे | Benefits of Grapes

0

Grapes – अंगूर को फलो रानी कहा जाता है। फलो से साथ-साथ इसका उपयोग शराब बनाने में भी किया जाता है। अंगूर विविध रंगों जैसे हरे, लाल, नील, बैगनी और काले में भी पाए जाते है। लेकिन दुनियाभर में अंगूर का ज्यादातर उपयोग वाइन (शराब) बनाने में ही किया जाता है।Benefits of Grapes

“फलो की रानी” अंगूर से होने वाले फायदे – Benefits of Grapes

भारतीय उद्योग में इसका उपयोग एक फल के रूप में या कभी-कभी इसका सेवन ड्राई फ्रूट के साथ भी किया जाता है।

अंगूर आसानी से हमें सालभर बाजार में मिल जाते है। अंगूर का स्वाद भी थोडा मीठा और खट्टा होता है लेकिन यह महत्वपूर्ण और आवश्यक न्यूट्रीशन से समृद्ध भी होता है। अंगूर में पाए जाने वाले न्यूट्रीशन हमारे शरीर के स्वास्थ के लिए काफी लाभदायक होते है।

अंगूर का सेवन में सीधे तौर पर भी कर सकते है या फिर इसका उपयोग अक्सर वाइन, जैम, ज्यूस, जेली, किशमिश, विनेगेर या अंगूर का तेल बनाने में भी किया जाता है। आइये अब अंगूर से हमारे स्वास्थ को होने वाले कुछ फायदों के बारे में जानते है।

1. वजन कम करने में सहायक:

वजन कम करने के लिए आपको अंगूर जैसे और भी बहुत से कम कैलोरी वाले खाद्य पदार्थो का सेवन करते रहना चाहिए। इसे कम कैलोरी का सेवन करने के बावजूद आपको अपना पेट भरा हुआ लगेगा। रिसर्च से यह ज्ञात हुआ है की फ्लावोनोइड से युक्त अंगूर भी आपके वजन को नियंत्रित रखने में सहायक है।

2. आँखों का स्वास्थ:

अंगूर का सेवन करने से यह रेटिना को क्षय से बचाकर आँखों के स्वास्थ में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विशेषतः अंगूर को जब आप अपने दैनिक आहार में ही शामिल कर लो तब आपकी आँखे लंबे समय तक स्वस्थ रहेंगी।

3. दाँतो का स्वास्थ:

लाल वाइन और अंगूर के बीज कैविटीज को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।

4. अस्थमा:

अंगूर के उपचारात्मक मूल्य की वजह से इसका उपयोग अस्थमा के ईलाज के लिए भी किया जा सकता है। इसके साथ-साथ अंगूर की हाइड्रेटिंग क्षमता भी ज्यादा होती है, जो हमारे फेफड़ो में पाए जाने वाले मोइस्चर को कम करता है और अस्थमा की बीमारी को भी कम करता है।

5. स्तनों का कैंसर:

बैगनी रंग के अंगूर या उसका ज्यूस स्तनों के कैंसर होने के खतरे को कम करता है। रोजाना अंगूर के ज्यूस का सेवन करने से हमें जल्द ही सकारात्मक परिणाम मिल जाता है।

6. माइग्रेन:

माइग्रेन की समस्या से बचने के लिए पके हुए अंगूर किसी औषधि से कम नही है। इसका सेवन हर सुबह करते रहना चाहिए। लाल वाइन का सेवन करने से ही माइग्रेन की समस्या होती है लेकिन लाल अंगूर के ज्यूस और इसके बीजो का सेवन करने से हम माइग्रेन की बीमारी इ छुटकारा भी पा सकते है।

माइग्रेन होने के बहुत से कारण हो सकते है और इसके सही कारण को ढूंड पाना बहुत मुश्किल है। माइग्रेन होने के मुख्य कारणों मे केमिकल असंतुलन, नींद की कमी, वातावरण में बदलाव इत्यादि हो सकते है। जबकि अल्कोहल माइग्रेन के साधारण कारणों में से एक है। लेकिन अंगूर में भी कुछ ऐसे एंटीओक्सिडेंट पाए जाते है, जो बहुत सी बार इस बीमारी का कारण भी बनते है और ईलाज भी बनते है।

7. ब्लड प्रेशर:

हाई ब्लड प्रेशर वाले मरीजो को अंगूर का सेवन करने की सलाह दी जाती है, ताकि अंगूर शरीर में सोडियम से होने वाले प्रभाव को कम कर सके। बीना बीज वाले हरे अंगूर में 175 मिलीग्राम पोटेशियम होता है, जबकि लाल अंगूर में यह मात्रा 290 मिलीग्राम और काले अंगूर में यही मात्रा 200 मिलीग्राम होती है।

8. किडनी की समस्या:

अंगूर साधारणतः यूरिक की अम्लता को कम करते है और साथ ही यह हमारे तंत्र से एसिड को ख़त्म करने में भी सहायक है। इससे किडनी पर आपने वाला प्रेशर कम हो जाता है और एसिडिटी कम होने के बावजूद भी यह हमारे शरीर में उपस्थित ही रहता है। अंगूर का हमारे शरीर पर हमेशा सकारात्मक प्रभाव ही होता है। साथ ही अंगूर में पाए जाने वाले एंटीओक्सिडेंट विविध रूप से हमारे शरीर के लिए फायदेमंद साबित होते है।

Read More:

  1. Benefits Of Apple
  2. Benefits of Kiwi 
  3. Benefits of Orange
  4. Benefits of Strawberries
  5. Benefits of Watermelon
  6. Health Tips 

Note: अगर आपको हमारा अंगूर से होने वाले फायदे – Benefits of Grapes आर्टिकल अच्छा लगा तो जरुर Facebook पर लाइक करे और हमसे जुड़े रहिये। हम आपके लिए और ऐसे Benefits of Fruits लायेंगे।
Please Note: अंगूर के फायदे / Benefits of Grapes के लिए दी गयी जानकारी को हमने हमारे हिसाब से बताया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.