Ovulation पीरियड क्या हैं? | what is Ovulation period?

0
2083

Ovulation महिलाओ के मासिक धर्म का ही एक भाग है, ओवरी से अण्डे के बाहर आने की क्रिया को ओवुलेशन कहते हैं। यह उस समय होता है जब अंडे फैलोपियन ट्यूब से यात्रा करते है और जहाँ उनका संबंध वीर्य से होता है और वे fertilized होते है।

Ovulation पीरियड क्या हैं? – what is Ovulation period?
ovulation

Ovulation का नियंत्रण हाइपोथलमस नाम के दिमाग के ही एक भाग द्वारा किया जाता है, जो संकेत भेजकर ग्रंथियों को सचेत करता रहता है।

Ovulation की प्रक्रिया तक़रीबन मासिक साइकिल के 10 या 19 वे दिन से शुरू होती है और यही समय होता है जिसने महिलाए ज्यादा उपजाऊ होती है।

Ovulation को कैसे पहचाना जा सकता है?

महिलाओ में Ovulation के हमें बहुत से संकेत दिखाई देते है। Ovulation के समय the cervical mucus तेजी से बढ़ने लगता है और एस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ने यह गाढ़ा होने लगता है। अक्सर कहा जाता है की the cervical mucus महिलाओ के सबसे उपजाऊ भाग में पाए जाते है।

Ovulation में आपके शरीर का तापमान 0.4 से 1.00 डिग्री तक बढ़ जाता है। यह प्रोजेस्टेरोन हार्मोन की वजह से होता है, जो तब अलग हो जाता है जब अंडे रिलीज़ किये जाते है। कहा जाता है की जब महिलाओ का तापमान 2 से 3 दिनों तक बढ़ जाता है तब उनकी उपजाऊ क्षमता भी बढ़ जाती है।

कुछ महिलाए अपने मासिक धर्म के बीच में ही Ovulation को भांपने में सफल हो जाती है। लेकिन कुछ महिलाओ के मासिक धर्म के बीच में ही Ovulation के समय दर्द भी होने लगता है और यह दर्द कभी-कभी कुछ मिनटों तक चलता है तो कभी कुछ घंटो तक।

वर्तमान में Ovulation को भांपने के लिए ड्रग स्टोर पर Ovulation को भांपने की किट भी मिलती है, जिससे आप केवल अपने मूत्र के माध्यम से ही Ovulation के समय को जान सकते हो।

Ovulation कब होता है?

सामान्यतः औसतन महिलाओ में मासिक धर्म 28 से 32 दिनों के बीच आती है। प्रत्येक साइकिल की शुरुवात को उसके मासिक धर्म का पहला दिन कहा जाता है। जबकि Ovulation हमेशा मासिक धर्म की साइकिल के 10 से 16 वे दिन के बीच में और अगले पीरियड्स के 12 से 18 दिनों पहले होता है।

किशोर और युवा महिलाओ में menstruate होने की शुरुवात 9 से 15 वर्ष की आयु के बीच में ही हो जाती है और इसी समय से महिलाए Ovulation के लिए तैयार रहती है और गर्भवती भी बन सकती है।

menopause के बाद तक़रीबन 51 साल की उम्र में Ovulation की प्रक्रिया बंद हो जाती है। लेकिन कभी-कभी बहुत सी महिलाओ में menopause के बाद भी Ovulation होने लगता है।

Ovulation कैलेंडर क्या है?

Ovulation कैलेंडर एक प्रकार की समय सारणी है जिससे महिलाए Ovulation होने के समय का अंदाजा लगा सकती है। Ovulation के कुछ कैलेंडर में तो luteal phase की लंबी अवधि को भी दर्शाया गया है। डॉक्टरो के अनुसार महिलाओ के लिए Ovulation कैलेंडर काफी लाभदायक साबित होता है, कहा जाता है की महिलाओ को इस बात की जानकारी लिखकर रखनी चाहिए की अंतिम बार उनकी मासिक पाली कब आयी थी तो अबकी बार कब आयी।

Ovulation disorders :

बाँझपन के कई कारण हो सकते है, बहुत से कारणों की वजह से महिलाओ की उपजाऊ क्षमता प्रभावित होती है। इन विकारो में मुख्य रूप से निचे दिए गये तत्व शामिल है :

• पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (PCOS)
• हाइपोथलामिक डायसफंक्शन
• प्रीमेचुअर ओवेरियन इनसफीसिएँसी
• अतिरिक्त प्रोलैक्टिन

PCOS के मामले में, हमे महिलाओ में हार्मोनल बदलाव और अनियंत्रण की वजह से अलग-अलग तरह के लक्षण दिखाई देते है। यह अनियंत्रण Ovulation की प्रक्रिया में रूकावट का काम करता है और इसी वजह से हमें दूसरी शारीरिक समस्याओ से भी जूझना पड़ता है। महिलाओ में बांझपन के लिए PCOS ही सबसे बड़ा और मुख्य कारण है।

हाइपोथलामिक डायसफंक्शन को जिन महिलाओ में अनियमित मासिक धर्म की समस्या है उनमे स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। क्योकि जरुरी हार्मोंस का उत्पादन ना कर पाने की वजह से उनमे Ovulation की प्रक्रिया स्वस्थ रूप से पूरी नही हो पाती। हाइपोथलामिक डायसफंक्शन का मुख्य कारण महिलाओ द्वारा अतिरिक्त तनाव लेना और लगातार निराश रहना ही है, जिससे उनका वजन बिना किसी वजह से अचानक बढ़ने या कम होने लगता है।

प्रीमेचुअर ओवेरियन इनसफीसिऍसी कई बार स्व-प्रतिरक्षित रोग, आनुवांशिक असामान्यताओ और पर्यावरणीय टोक्सिन की वजह से हो सकती है। 40 से भी कम की उम्र में महिलाए इन बीमारियों से पीड़ित होती है और इससे उनके शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा में भी भारी कमी आने लगती है।

कुछ परिस्थितियों में, महिलाए ज्यादा मात्रा में प्रोलैक्टिन का उत्पादन करने लगती है जिससे एस्ट्रोजन के उत्पादन में कमी आ जाती है। आपके शरीर में जितना ज्यादा प्रोलैक्टिन होंगा उतना ही कम खतरा आपको Ovulation की बीमारी होने का रहेगा।

यह जानकारी हमनें हमारे हिसाब से दी हैं, अगर आपको Ovulation के बारेमें और भी जानकारी जाननी हैं तो अपने निजी डॉक्टर से सलाह ले।

Read More :-

  1. महिलाओं के अच्छे स्वास्थ्य के लिये टिप्स
  2. स्तनों का आकार को कैसे बढ़ाये
  3. अनियमित मासिक धर्म के उपाय

अगर आपको हमारा what is Ovulation period लेख अच्छा लगा तो जरुर हमें कमेन्ट के माध्यम से बताएं. और Facebook पर लाइक करके हमसे जुड़ें. धन्यवाद

SHARE
Hello friends, I am Shilpa K. founder of LifeStyleHindi.com, this website is the online source of Lifestyle information in Hindi, recipes in Hindi, beauty tips, health tips, and more lifestyle tips article in Hindi. we focused on delivering rich and evergreen subject that useful for Hindi reader.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here