खट्टी मीठी इमली के स्वास्थकारी लाभ | Benefits of Tamarind

1
982

Tamarind – इमली एक फल है जिसका स्वाद थोडा खट्टा और मीठा होता है। इसका उपयोग अक्सर दुनियाभर में बनाए जाने के वाले अलग-अलग पकवानों में किया जाता है, इसे न्यूट्रीशन का पावरहाउस भी कहा जाता है।
Tamarind

खट्टी मीठी इमली के स्वास्थकारी लाभ – Benefits of Tamarind

इमली अपने बहुपयोगी गुणों के कारण जानी जाती है, इसका उपयोग आप पाक, औषधि और सामग्री के रूप में भी कर सकते है। इमली जैसे पदार्थ को आपने अपने दैनिक आहार में शामिल कर लेना चाहिये क्योकि इससे आपको बहुत से स्वास्थ लाभ हो सकते है और यह आपके स्वास्थ को भी विकसित करेगी।

आप कच्ची इमली को भी खा सकते हो, निश्चित ही इसका अद्भुत स्वाद खाने के बाद आपके चहरे के हाव-भाव को बदलकर रख देगा। पकी हुई इमली का भूरा भाग काफी स्वादिष्ट होता है, अक्सर इसका नाम सुनते ही लोगो के मुँह में पानी आ जाता है। इमली का उपयोग रसोईघरो के साथ-साथ विविध औषधियों में भी किया जाता था। इमली की पत्ती, बीज, गुदे और फुल सभी में औषधीय गुण छुपे होते है।

इमली के पेड़ की पत्तियाँ और फुल दोनों ही खाने योग्य होते है। थाईलैंड विशेषतः इमली की अपनी विशेष प्रजाति और मीठे स्वाद के लिए प्रसिद्ध है। यह फल उन सभी मिनरल्स और विटामिंस से समृद्ध होता है, जिसकी जरुरत आपको अपने दैनिक आहार में होती है।

कैंसर से लढता है:

इमली में भरपूर मात्रा में एंटीओक्सिडेंट पाए जाते है। अभ्यास से यह ज्ञात हुआ है की इमली के बीज में किडनी के कैंसर से शरीर को दूर रखने की ताकत होती है, क्योकि इमली के बीज में कुछ ऐसे एंटीओक्सिडेंट पाए जाते है जो किडनी के कैंसर से शरीर को बचाए रखते है।

पाचन स्वास्थ:

इमली को काफी समय से एक प्राकृतिक रेचक माना जाता है और उसमे पाया जाने वाला आहारीय फाइबर हमारे शरीर के लिए काफी लाभदायक साबित होता है। इमली को फल के रूप में खाने से यह आपके पाचन तंत्र के स्वास्थ को बढाता है, जबकि इसमें पाया जाने वाला फाइबर आपके पेट को साफ़ रखता है और खाने के पचाने की क्रिया को भी गतिशील बनाता है। इन सभी तत्वों की वजह से आपका पाचन तंत्र सुचारू रूप से काम करने लगता है, जिससे आप एक शक्तिशाली रेचक का निर्माण कर सकते है जो आपको हमेशा कब्ज से बचाता है। अभ्यास से यह भी पता चला है की इमली जीर्ण के डायरिया को भी कम करने में सहायक है।

सर्दी, खाँसी और अस्थमा के इलाज में सहायक:

क्या खांसी आपको परेशान कर रही है? तो आप शायद इमली खानी चाहिये। एलर्जिक अस्थमा और कफ के इलाज में इमली प्रभावशाली और कारगर साबित हुई है, क्योकि इसमें अस्थमा को कम करने वाले बहुपयोगी तत्व पाए जाते है। साथ ही इमली विटामिन C से युक्त होती है, जो हमारे प्रतिरक्षा तंत्र को शक्तिशाली बनाता है।

ह्रदय का स्वास्थ:

इमली पर किये गये अभ्यास से यह ज्ञात हुआ है की इमली ब्लड प्रेशर और ब्लड कोलेस्ट्रॉल को प्रभावशाली रूप से कम करने में सहायक है। इमली में पाया जाने वाला फाइबर शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करके हानिकारक और विषैले पदार्थो को शरीर से बाहर निकाल फेकता है। इमली में पाया जाने वाला पोटेशियम ब्लड प्रेशर को कम करने में कारगर साबित हुआ है, साथ ही यह ह्रदय प्रणाली पर आने वाले दबाव और संकटों को भी दूर करता है। इमली में पर्याप्त मात्रा में विटामिन C पाया जाता है, जो मुक्त रेडिकल्स को मार गिराने में एंटी-ओक्सिडेंट का काम करने लगता है। साथ ही सेलुलर चयापचय की वजह से होने वाली ह्रदय बीमारियों को इमली से के सेवन से दूर किया जा सकता है।

वजन कम करने में सहायक:

इमली में पाए जाने वाले सबसे महत्वपूर्ण तत्वों और यौगिको में से एक HCA (हाइड्रोक्सीसिट्रिक एसिड) है। HCA हमारे शरीर के वजन कम करने को लेकर पूरी तरह से जुड़ा हुआ होता है, क्योकि इसमें एक ऐसा एंजाइम पाया जाता है, जो शरीर में जमा वसे को पूरी तरह से नष्ट कर देता है। आज भी इमली से होने वाले बहुत से फायदों पर खोज जारी है।

घांवो को भरने में सहायक:

दुनियाभर के बहुत से देशो में इमली की पत्तियों और खाल का उपयोग जल्दी से घांवो को भरने के लिए किया जाता है, क्योकि इसमें घांवो को भरने वाले एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरियल तत्व पहले से ही मौजूद होते है। एक अभ्यास से तो यह भी पता चला है की इमली के बीज के उद्धरण का उपयोग को किसी भी बड़े से बड़े घाव को मात्रा 10 दिनों के भीतर भरा जा सकता है।

क्या इमली गर्भवती महिलाओ के लिये सुरक्षित है? – Pregnant Lady can Eat Tamarind

जी हाँ, पूरी तरह सुरक्षित है? इमली बहुत से न्यूट्रीशन और फाइबर से समृद्ध होती है जो माँ और आने वाले नवजात शिशु दोनों के ही लिए जरुरी होते है। इमली को खाने से कोई भी दुष्परिणाम नही होते। बल्कि गर्भवती महिलाए अपने दैनिक आहार भी इमली को शामिल कर सकती है, क्योकि गर्भवती महिलाओ को जब सुबह-सुबह कब्ज और कमजोरी की समस्या होती है, उस समय इमली हमारे शरीर में दवाई का काम करने लगती है। लेकिन गर्भवती महिलाओ को इसका सेवन करने से पहले अपने पारिवारिक डॉक्टर से सलाह अवश्य ले लेनी चाहिए।

इमली से होने वाले दुष्परिणाम – Tamarind Side Effect:

• जो लोग एस्पिरिन या दूसरी खून को पतला करने वाली चीजो का सेवन करते है, उन्हें इमली का सेवन नही करना चाहिये, क्योकि इससे आपका खून गाढ़ा हो सकता है।

• एक अभ्यास से तो यह भी ज्ञात हुआ है की इमली शरीर में सेरोटोनिन के प्रमाण को बढाती है और इसी वजह से आपको सेरोटोनिन विषाक्तता भी हो सकती है।

Read More – Health Tips 

जरुर पढ़े –

  1. Nimbu Ke Fayde
  2. Shahad Ke Fayde
  3. Tulsi Ke Fayde
  4. Badam Ke Fayde
  5. Benefits Of Apple
  6. Anjeer Ke Fayde

Note :- अगर आपको हमारा खट्टी मीठी इमली के स्वास्थकारी लाभ / Benefits of Tamarind आर्टिकल अच्छा लगा तो जरुर Facebook पर लाइक करे. और हमसे जुड़े रहिये. हम आपके लिए और ऐसे Health Tips लायेंगे.
Please Note :- इमली / Tamarind के लिए दी गयी जानकारी को हमने हमारे हिसाब से बताया है.

SHARE
Hello friends, I am Shilpa K. founder of LifeStyleHindi.com, this website is the online source of Lifestyle information in Hindi, recipes in Hindi, beauty tips, health tips, and more lifestyle tips article in Hindi. we focused on delivering rich and evergreen subject that useful for Hindi reader.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here