दस्त के लिये घरेलु उपाय | Home Remedies for Loose Motion

2
1600

Loose Motion – दस्त इसे हम डायरिया के नाम से भी जानी जाती है, जिनका अनुभव बहुत से लोग कर चुके है। यह तीव्र या जीर्ण भी हो सकती है। बार-बार मल त्याग करना ये दस्त का मुख्य लक्षण हैं इसके साथ ही बहुत से लक्षण जैसे पेट में ऐठन आना, पेट में दर्द होना, बुखार, सुजन और कमजोरी जैसे बहुत से लक्षण दिखाई देते है। इसकी वजह से, आपको गुदा क्षेत्र में खुजली, जलन, व्यथा और दर्द जैसी समस्या भी हो सकती है।
दस्त के बहुत से कारण हो सकते है, जिनमे वायरल इन्फेक्शन, बैक्टीरियल इन्फेक्शन, पैरासिटिक अटैक, फ़ूड पॉईजन और साइड इफ़ेक्ट का भी समावेश है।

दस्त के लिये घरेलु उपाय – Home Remedies for Loose Motion
loose motion

क्योकि कभी-कभी यह किसी गंभीर बीमारी का संकेत भी देती है। साथ ही इससे डीहाइड्रेशन और कमजोरी जैसे समस्या भी होती है, जो आपके स्वास्थ के लिए कभी भी लाभदायक नही है।

दस्त की समस्या को कम करने के लिए साथ-साथ दस्त से छुटकारा पाने के बहुत से घरेलु उपाय भी है जो आज हम आपको बतायेंगे |
यहाँ निचे दस्त से छुटकारा पाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण उपाय बताये गये है –

1. सेब का सिरका –

सेब का सिरका दस्त से छुटकारा पाने के लिए सबसे उपर्युक्त है। यह प्राकृतिक एंटीबायोटिक डायरिया से बचाने में भी सहायक है, इसमें पाए जाने वाले तत्व हमारे शरीर में डायरिया विकसित करने वाले बैक्टीरिया को नष्ट करते है।

साथ ही यह पेट की pH लेवल को भी नियंत्रित करने में सहायक है।

• 1 से 2 चम्मच बिना फ़िल्टर किये हुए सेब के सिरके को एक गिलास गर्म पानी में डाले।

• अब इसमें थोडा शहद डाले और हिलाए।

• अब जबतक आपकी हालत ठीक नही हो जाती तबतक दिन में 2 से 3 बार इसका सेवन करे।

2. दही

दही बैक्टीरिया के प्रो बायोटिक तनाव का अच्छा स्त्रोत है जो स्वस्थ बैक्टीरिया के समान ही होता है, जो आसानी से आपके पाचन तंत्र में पाया जाता है।

यह बैक्टीरिया आपकी आंतो में अच्छे बैक्टीरिया को बहाल करने में सहायक है। इसके साथ ही दही डायरिया से लढने में भी सहायक है।
रिसर्च के अनुसार जब इसका उपयोग रिहाइड्रेशन थेरेपी के साथ किया जाता है, तब इसके प्रोबायोटिक डायरिया के इन्फेक्शन को कम करने में सहायक है।

3. केला

कच्चे और पक्के दोनों केले डायरिया के इलाज में सहायक है। इनमे पाया जाने वाला फाइबर हमारे शरीर की आंतो में पाए जाने वाले तरल पदार्थ को सोख लेता है, जिससे हमारे शरीर को काफी मदद मिलती है और हमारा शरीर आसानी से मल को जमा कर पाता है।

पोटेशियम से भरपूर केले डायरिया के समय में जो इलेक्ट्रोलाइट आपका शरीर खो देता है, उन्हें उनका वापिस निर्माण करता है।

साथ ही यह बार-बार आ रहे मलत्याग को कम करने में भी सहायक है, और डायरिया के समय बार-बार होने वाली उल्टियो से भी आसानी से छुटकारा पा सकते है।

केले का सेवन डायरिया से पीड़ित मरीज के लिए बहुत लाभदायक माना गया है।

• जब आपको दस्त की समस्या हो तो आपको हर घंटे में एक पका हुआ केला खाना चाहिये।

• आप पके हुए केले को दही के साथ भी, दिन में 2 से 3 बार खा सकते हो।

• एक और दूसरा विकल्प कच्चे केले को उबालकर, उसे मसलकर फिर उसमे थोडा थोडा निम्बू का रस और चुटकी नमक डालकर भोजन करने से पहले खाए।

4. अदरक

दस्त के लिए अदरक एक बेहतरीन विकल्प या दवा है। अदरक आपके पेट की हड्डियों को मजबूत करने और खाद्य जमाव को कम करने में सहायक है। साथ ही अदरक दस्त को पूरी तरह से रोकने में भी सहायक है। साथ ही यह पाचनक्रिया को विकसित करने वाले एंजाइम को भी बढाता है।
अदरक डायरिया फ़ैलाने वाले बैक्टीरिया को कम करने और उन्हें शरीर से बाहर निकालने में सहायक है।

• 1 चम्मच कीमा बनायी हुई अदरक की जड़ को 1 ½ कप पानी में डाले। अब पानी को उबाले और ढककर कम से कम 5 से 10 मिनट तक ठंडा होने दीजिए। ठंडा होने के बाद इस चाय को दिन में 2 से 3 बार पीजिये।

• वैकल्पिक रूप से 1 छोटा चम्मच सूखे अदरक के पाउडर, जीरा पाउडर, दालचीनी पाउडर और शहद को मिलाकर मिश्रण बनाए और दिन में 2 से 3 बार इसका सेवन करे।

• नोट : जिन्हें हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है उन्हें ज्यादा मात्रा में अदरक का सेवन नही करना चाहिये।

5. हल्दी

घरेलु मसालों में एक और प्रभावशाली औषधि है – हल्दी। इसका एंटीबायोटिक स्वभाव हानिकारक बैक्टीरिया से लढने में सहायक है। साथ ही हल्दी आपके शरीर के तंत्र को सुचारू रूप से चलाने में भी सहायक है।
हल्दी में आंतो के सिंड्रोम को विकसित करने की भी क्षमता होती है। डायरिया हानिकारक आंतो के सिंड्रोम का ही एक लक्षण है।

• ½ चम्मच हल्दी को एक गिलास गर्म पानी में मिलाए। इसे अच्छी तरह से मिलाए और तुरंत पी जाए, क्योकि इसमें पाया जाने वाला पाउडर जल्दी ही अपनी सतह पर बैठ जाता है। इसे दिन एम 2-3 बार पिने की कोशिश करे।

• वैकल्पिक रूप से 1 चम्मच हल्दी पाउडर को 1 चम्मच एप्पल सॉस या दही में मिलाकर भी ले सकते है। दिन में 2 से 3 बार इस मिश्रण को ले।

6. दालचीनी

दालचीनी दस्त के समय एक प्रभावशाली औषधि का काम करती है।
इसमें शक्तिशाली एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल तत्व पाए जाते है जो हानिकारक ऑर्गन को नष्ट करते है और हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाते है।

• 1 चम्मच दालचीनी पाउडर और ½ चम्मच ताजा अदरक को एक कप गर्म पानी में मिलाए। बाद में इसे ढंककर 30 मिनट तक रखे। इस पेय को दिन में 2 से 3 बार पिये।

• वैकल्पिक रूप से ½ चम्मच दालचीनी पाउडर और 1 चम्मच शहद को एक गिलास गर्म पानी में मिलाए। अच्छी तरह से मिलाने के बाद दिन में कम से कम 3 बार इसका सेवन करे।

• आप दालचीनी पाउडर को केले पर छिड़क कर भी उसे खा सकते है।

इस तरह से आप इन घरलू उपायों से दस्त से तुरन्त छुटकारा पा सकते हैं , लेकिन ज्यादातर दस्त 2 से 3 दिनों तक चलती है। जबकि यदि हफ्तों तक यह चलती रहे और आपको निश्चित तौर पर अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिये।

अगर आपको हमारा दस्त के लिये घरेलु उपाय / Home Remedies for Loose Motion लेख अच्छा लगा तो जरुर हमें कमेन्ट के माध्यम से बताएं. और Facebook पर लाइक करके हमसे जुड़ें. धन्यवाद

SHARE
Hello friends, I am Shilpa K. founder of LifeStyleHindi.com, this website is the online source of Lifestyle information in Hindi, recipes in Hindi, beauty tips, health tips, and more lifestyle tips article in Hindi. we focused on delivering rich and evergreen subject that useful for Hindi reader.

2 COMMENTS

  1. नये साल के शुभ अवसर पर आपको और सभी पाठको को नए साल की कोटि-कोटि शुभकामनायें और बधाईयां। Nice Post ….. Thank you so much!! 🙂 🙂

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here