Baby Care Tips In Hindi | बेबी केयर टिप्स हिंदी में

3
6253

सभी माता-पिता प्यार से, ध्यान पूर्वक और अच्छे वातावरण में अपने बच्चे की परवरिश करना चाहते है। सभी माता-पिता अपने बच्चो की देखभाल में कोई कसर नही छोड़ना चाहते, क्योकि वे सभी जानते है की यह उनके बच्चो के बढ़ने की उम्र है। बच्चो की देखभाल में उनके स्वास्थ से लेकर उनकी जरूरतों तक की सारी चीजे आती है। आज हम यहाँ आपको कुछ बेबी केयर टिप्स / Baby Care Tips बताने जा रहे है। आज हम यहाँ आपको अपने बच्चो की मसाज कैसे करे, कार सीट सेफ्टी कैसे प्रदान करे और उनकी जरूरतों को कैसे पूरा किया जा सकता है इन सारी बातो के बारे में विस्तार से बतायेंगे।

Baby Care Tips In Hindi / बेबी केयर टिप्स हिंदी में

Baby Care Tips In Hindi
बॉडी केयर –

• अपने शिशु को नहलाते हर बार साबुन का उपयोग करने की बजाये आप कभी-कभी बेसन और दूध के मिश्रण का उपयोग भी कर सकते हो।

• अपने शिशु की मसाज करने के लिये आपको –
बेसन और क्रीम में एक चुटकी हल्दी मिलाकर बने मिश्रण का उपयोग करना चाहिये। बने मिश्रण को हल्के हाथो से अपने शिशु के शरीर पर लगाये और मसाज करे।
गेंहू के आटे का एक छोटा गोला लीजिये। उसपर थोडा मसाज तेल डालिये। अपने शिशु की मसाज उस गोले से कीजिये। बालो के बढ़ने की विपरीत दिशा में अपने शिशु के शरीर की मसाज करे। नवजात शिशु के शरीर से बाल हटाने का यह एक सर्वोत्तम उपाय है।

• 2 चम्मच बिना नमक के बटर को पिघलाकर, 1 चम्मच लैनोलिन, 2 चम्मच ग्लिसरीन और 3 चम्मच जैतून या बादाम के तेल का मिश्रण तैयार कीजिये। मिलाने के बाद अच्छी तरह फेंटे और उससे शिशु के शरीर की मसाज करे।

• एक मुट्ठी निम की पत्ती और तुलसी की पत्तियों की उबालकर उससे शिशु के बालो को धोए, इससे शिशु के बालो में जुए नही होंगी।

लंगोट धोना –

• यदि आप लंगोट को लॉन या फिर पौधों पर सुखाओ तो उसपर लगे दाग आसानी से गायब हो जायेंगे।

• लंगोट को धोने के बाद कीटाणुओं से मुक्त रखने के लिये आधे घंटे तक ही धुप में सुखाये।

• लंगोट को धोने के बाद प्रेस करके ही उसका पुनः उपयोग करे, इससे शिशु रोगमुक्त रहेगा।

• यदि आप मशीन में लंगोट को धो रहे हो तो मशीन के टेम्परेचर को बढाकर लंगोट को रोगमुक्त भी रख सकते हो।

कार सेफ्टी सीट –

• इसके नाम से ही इसके अर्थ और उपयोग को समझा जा सकता है, इसका उपयोग कार में होने वाले एक्सीडेंट से बच्चो को बचाने के लिये किया जाता है। एक्सीडेंट के समय यह बच्चो की सुरक्षा करती है और उन्हें कम से कम नुकसान ही पहुचाती है। चाइल्ड कार सेफ्टी सीट बहुत से प्रकार की होती है, जिनके अलग-अलग डिजाईन और फीचर होते है। आपकी कार के अनुसार सही तरह की चाइल्ड कार सेफ्टी सीट को खरीदना महत्वपूर्ण होता है। ताकि यात्रा के समय आपका शिशु सुरक्षित रहे।

बढ़ते हुए शिशु को लेकर चलना –

• बहुत से नन्हे शिशु अच्छी तरह जानते है की कैसे अच्छी तरह चला जा सकता है। नवजात शिशु भी बड़े लोगो की तरह से कंधे-से-कंधा मिलाकर इस खुबसूरत दुनिया को देखना चाहते है। वे भी अपनी यात्रा का लुफ्त उठाना चाहते है। बच्चे अपने माता-पिता के कंधो पर घुमने की बजाये, स्वतंत्र होकर आनंदित रहना पसंद करते है। इसीलिए अपने बच्चो को गोद में लेते समय हमेशा इस बात का ध्यान रखे की वह आरामदायक महूसस कर रहा है या नही।

उपर दिये गए सभी उपायों को अपनाकर आप अपने शिशुओ की देखभाल अच्छी तरह से कर सकते हो।

Read More:

अगर आपको हमारा Baby Care Tips In Hindi / बेबी केयर टिप्स हिंदी में लेख अच्छा लगा तो जरुर हमें कमेन्ट के माध्यम से बताएं. और Facebook पर लाइक करके हमसे जुड़ें. धन्यवाद

SHARE
Hello friends, I am Shilpa K. founder of LifeStyleHindi.com, this website is the online source of Lifestyle information in Hindi, recipes in Hindi, beauty tips, health tips, and more lifestyle tips article in Hindi. we focused on delivering rich and evergreen subject that useful for Hindi reader.

3 COMMENTS

  1. 2 se 3 sal k bacche ke liye diet plan bata sakte hai kya?
    actully may working karti hu to mera baby din bhar kya khata hai muje pata nahi chalta kitna khata ye bhi nahi pata chal pata hai.. us ka weight kam ho raha hai

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here