पीरियड्स की समस्या को कैसे कम करे | Periods Problem In Hindi

0

ऐसी सभी महिलाये जो यौवनावस्था की स्थिति में पहोच गयी है उनके लिए माहवारी / Periods Problem आना उनकी ज़िन्दगी का ही एक भाग है। लेकिन माहवारी विविध तथ्यों पर निर्भर करती है। माहवारी शरीर की ही एक प्रक्रिया होती है जिसमे गर्भ के अस्तर को फ़ैलाने की प्रकिया होती है। माहवारी में आने वाला खून गर्भ के अस्तर से होकर गर्भाशय ग्रीवा से गुजरकर योनि से बाहर निकलता है।

पीरियड्स की समस्या को कैसे कम करे / Periods Problem In Hindi
Periods Problem In Hindi

महिलाये जब गर्भावस्था में नही होती है तब माहवारी महीने के अंतराल में ही आती है। मासिक माहवारी समय पर होना इस बात को दर्शाते है की महिलाओ का प्रजनन तंत्र सही तरह से काम कर रहा है। माहवारी के समय में महिलाओ को दर्द का सामना भी करना पड़ता है। लेकिन थोड़ी लाइफस्टाइल में बदलाव कर और कुछ घरेलु उपयो को अपनाकर माहवारी के समय में आप इन समस्याओ से छुटकारा पा सकते हो।

आइये जानते है की निचे दिए गए कुछ आसान उपायो को अपनाकर पीरियड्स की समस्या कैसे कम की जा सकती है –

1. हीट पैक (Heat Pack) –

शरीर के उदरीय क्षेत्र में हीट पैक लगाने से माहवारी के समय गर्भाशय ग्रावि से निकलने वाला तरल द्रव आसानी से शरीर के बाहर निकल जाता है। यह पैक पीरियड्स के समय में होने वाले दर्द को भी कम करता है और गर्भाशय की हड्डियों को स्वस्थ रखता है।

– एक हीटिंग पैड (Heating Pad) या फिर गर्म पानी बोतल लेकर उसे 5 से 10 मिनट तक अपने निचले उदर पर रखे। इसके बाद थोडा आराम कर के दोबारा इस प्रक्रिया को दोहराये।

दूसरा उपाय यह भी है की एक टॉवल को गर्म पानी में भिगोये और फिर टॉवल को निचोड़कर उसमे से ज्यादा का पानी निकाल ले और फिर इसे निचले उदर पर रखे, तब तक टॉवल रहने दे जब तक वह पूरी तरह से ठंडा नही हो जाता। जरुरत पड़ने पर इस प्रक्रिया को दोहराये।

नोट – ध्यान रहे की हीट (Heat) इतनी ज्यादा भी नही होनी चाहिए की जिससे आपके निचले उदरीय भाग को क्षति पहोंचे।

2. गर्म शावर या स्नान –

गर्म शावर लेने से या गर्म पानी से स्नान करने से आपको राहत मिल सकती है, माहवारी के समय में आपको जो परेशानी या दर्द होती है, इस उपाय से आपको उससे राहत मिल सकती है।

जब आप गर्म शावर या स्नान करते हो आपके शरीर का टेम्परेचर बढ़ता है। यह शरीर के फैलाव को बढ़ाता है और गर्भाशय ग्रीव में रक्त के बहाव को बढ़ाता है। यह आपके उदर की हड्डियों के लिए आरामदायक है और यह माहवारी के समय में आपके दर्द को भी कम करता है।

स्नान करने से पहले आप पानी में सेंधा नमक या जरुरी तेल भी डाल सकते हो। पीरियड्स के समय में आपको दिन में दो से तीन बार गर्म स्नान करना चाहिए।

3. उदरीय मसाज –
अपने उदरीय भाग की मसाज करने से भी आपका दर्द कम हो सकता है। ऐसा करने से उदर में आई मरोड़ भी दूर की जा सकती है।
इसे आप बैठकर, खड़े रहते हुए या फिर सोते हुए भी कर सकते हो।

– गर्म जैतून (Olive) के तेल को निचले उदरीय भाग पर लगाकर रगड़े।

– हल्के मोशन को लेकर दोनों हाथो की सहायता से 5 से 10 मिनट तक मसाज करे।

– मसाज करने समय लगातार गहरी साँस लेते रहे।

– जबतक पीरियड्स खत्म नही हो जाते तबतक रोज़ इस प्रक्रिया को दोहराए।

4. विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थ –

गर्भाशय के समय माहवारी के समय में स्वस्थ खाद्य खाना खाना बहोत जरुरी है। अपने आहार में ऐसे खाद्य पदार्थो को शामिल करे जो विटामिन सी से भरपूर हो, इससे आपको माहवारी के समय में सहायता मिलेगी। विटामिन सी गर्भाशय ग्रीव से होकर निचले उदर से निकलने वाले खून को तेज़ी से बाहर निकालता है। और दर्द देने वाले टॉक्सिन को भी दूर करता है।

इसके साथ ही विटामिन सी आपके शरीर में आयरन की मात्रा बढ़ाने में भी सहायक है और इससे आपका रक्त भी शुद्ध होता है।

– बहोत से खाद्य पदार्थ विटामिन सी से भरपूर होते है जैसे शिमला मिर्च, हरे पत्तो वाली सब्जियां, हरी फूलगोभी, कीवी, टमाटर, मटर, निम्बू युक्त फल और पपीता।

– इसके लिए आप सुप्प्लिमेंट्स भी ले सकते हो, लेकिन इसे अपने डॉक्टर की सलाह पर ही वे।

विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थो को लेने के साथ ही विविध हरी सब्जियों का भी सेवन करे।

5. तरल पदार्थ –

पीरियड्स के समय में सिमित मात्रा में ही पानी का सेवन करे, माहवारी के समय इस बात का ध्यान रखना बहोत जरुरी है।
सिमित मात्रा में तरल पदार्थ पिने से आपके शरीर के अंदर की सभी प्रक्रिया आसानी से होती है। उदर के फैलाव और ज्यादा बाह रहे खून को कम करने में भी यह सहायक है।

– रोज़ 8 से 10 गिलास पानी पिए। यदि आप एक्सरसाइज भी करते हो तो ज्यादा पानी पिए।

– ग्रीन टी, ताज़ा फल और सब्जियों के फल का भी सेवन करे। पानी के जगह पर आप नारियल पानी भी पी सकते हो।

– माहवारी के समय में कैफीन और अल्कोहल से दूर रहे।

6. एक्सरसाइज –

महिलाओ ने रोज़ एक्सरसाइज करनी चाहिए और पीरियड्स के दीनो में भी एक्सरसाइज करते रहना चाहिए। देखा गया है की जो महिलाए फिट रहती है वे रोज़ एक्सरसाइज करने को प्राधान्य देती है। और ऐसी ही महिलाये पीरियड्स के दीनो में स्वस्थ और तंदरुस्त रहती है। दूसरी तरफ देखा जाये तो ज्यादा वजन वाली महिलाये और ऐसी महिलाये जो आर्थिक रूप से फिट नही है उन्हें पीरियड्स के दीनो में काफी मुश्किलो का सामना करना पड़ता है।
एक्सरसाइज करने से शरीर का ब्लड सर्कुलेशन मजबुत होता है और मासिक पीरियड्स के समय महिलाओ को ज्यादा दर्द भी नही होता।
इससे महिलाओ की चिंता भी दूर होती है।

यदि आप कठिन एक्सरसाइज नही कर सकते तो आप स्विमिंग, टहलना और जोगिंग भी कर सकते हो। जरुरत पड़ने पर आप एक्सरसाइज करने के समय को कम या ज्यादा भी कर सकते हो।

7. हल्दी –

हल्दी उन महिलाओ के लिए बहोत उपयोगी है जो पीरियड्स के दीनो में भी साधारण दीनो की तरह रहना चाहते है। हल्दी आपके शरीर की हीट (Heat) को बढाती है।

माहवारी के समय होने वाली असुविधा और दर्द के लिए हल्दी लाभदायक साबित हो सकती है।

– एक गिलास गर्म दूध में 1 चम्मच हल्दी पाउडर गर्म करे।

– कुछ दिनों तक इसे रोज़ दिन में दो बार पिए।

टिप्स –

1. रोज़ एक कप कैमोमाइल, तेजपत्ते की ग्रीन टी जरूर पिए।

2. माहवारी के दौरान आराम करना बहोत जरुरी है और जितना हो सके उतना खुले में रहे।

3. गर्म नारियल के तेल से निचले उदर की मसाज करे।

4. पूरी नींद ना होने की वजह से भी आपको माहवारी में ज्यादा तकलीफ हो सकती है। महिलाओ को 7 से 8 घंटे की नींद जरुरी है।

5. माहवारी के समय ज्यादा वजन ना उठाये।

नोट – यही ज्यादा खून बह रहा है तो आपको अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। यह लक्षण स्वास्थ समस्याओ को दर्शाते है।

ये भी जरुर पढ़े :-

  1. गर्भावस्था खुदका ख़याल कैसे रखें ?
  2. स्तनों का आकार को कैसे बढ़ाये
  3. अनियमित मासिक धर्म के उपाय

अगर आपको हमारा पीरियड्स की समस्या को कैसे कम करे / Periods Problem In Hindi लेख अच्छा लगा तो जरुर हमें कमेन्ट के माध्यम से बताएं. और Facebook पर लाइक करके हमसे जुड़ें. धन्यवाद

Leave A Reply

Your email address will not be published.