lifestylehindi Best Website For Hindi Article On LifeStyle

अनियमित मासिक धर्म के उपाय | Home Remedies for Irregular Periods

3

अनियमित पीरियड्स / Irregular Periods को मेडिकल की भाषा में ओलिगोमेनोरहि कहते है, महिलाओ में यह सामान्य समस्या होती है। अनियमित पीरियड्स 35 से उससे ज्यादा दिन के अंतराल में होते है। जबकि साधारनतः पीरियड्स की कालावधि 21 से 35 दीनो तक की ही होती है। माहवारी के समय निकलने वाला खून साधारणतः 2 दिनों तक बहते रहता है लेकिन कभी-कभी यह 7 दिनों तक भी बहता है। महिलाओ को एक साल में 11 से 13 पीरियड्स आते है लेकिन जिन्हें अनियमित पीरियड्स आते है उन्हें साल में 6 से 7 पीरियड्स ही आते है।
अनियमित पीरियड / Irregular Periods का अर्थ दो पीरियड्स के बीच का अंतर अनियमित होना है।

अनियमित मासिक धर्म के उपाय | Home Remedies for Irregular Periods
Home Remedies for Irregular Periods

इसके लिए कई तत्व जिम्मेदार होते है जैसे अचानक वजन बढ़ना या कम होना, एनीमिया, थाइरोइड, डिसऑर्डर्स, हार्मोनल असमानता, लिवर से सम्बंधित समस्या, डायबिटीस, गर्भाशय ग्रीव में असाधारणता और स्वास्थ में कमी।

इसके साथ ही एक्सरसाइज को बढ़ाना, धूम्रपान, अल्कोहल, कैफीन, ज्यादा मात्रा, चिंता और जन्म नियंत्रण पिल्स लेना भी इस समस्या की वजह बन सकती है। इसके साथ ही 2005 यूरोपियन स्टडी में यह बताया गया है की अस्थमा और तेज़ बुखार भी इसकी वजह बन सकते है।

माहवारी के शुरुवाती दिनों में इसमें अनियमितता हो सकती है लेकिन कुछ सालो बाद माहवारी नियमित समय में ही आती है। महिलाओ में माहवारी को लेकर कई समस्या होती है जिनकी अलग-अलग वजह हो सकती है।

यहाँ निचे अनियमित पीरियड्स के 10 घरेलु उपाय दिए गए है –

1. अदरक / Ginger 
माहवारी के समय को नियमित बनाने के लिए अदरक बहोत लाभदायक है बल्कि अदरक से माहवारी के दौरान होने वाला दर्द भी कम होता है। इसीलिये यदि आपको अनियमित माहवारी आये तो आप अदरक का सेवन जरूर करे।
1. ताज़ा पिसी हुई आधा चम्मच अदरक को 1 कप पानी में सात मिनट तक उबाले।
2. उबालने के बाद उसमे थोड़ी शक्कर डाले।
3. खाना खाने के बाद इसे दिन में 3 बार पिए।
4. ऐसा कम से कम एक महीना अवश्य करे।

2. दालचीनी / Cinnamon
दालचीनी माहवारी के समय को नियमित करने के लिए सहायक मानी जाती है। पारंपरिक चीनी औषधियों के अनुसार यह माना गया है की इससे शरीर गर्म होता है।
इसमें हाइड्रोऑक्सिचलकोन होता है जो इन्सुलिन के लेवल को माहवारी के समय में नियंत्रित रखता है। एक अभ्यास में यह पता चला है की दालचीनी माहवारी के समय में होने वाले दर्द को कम करती है।
– आधा चम्मच दालचीनी पाउडर एक गिलास दूध में मिलाये। इसे कई हफ़्तों तक रोज़ पिए।
– आप दालचीनी की चाय भी पी सकते हो, अपने खाद्य पदार्थो पर दालचीनी भी छिड़क सकते हो और दालचीनी लकड़ी को रोज़ चबा भी सकते हो।

3. तिल के बीज और गुड़ –
तिल के बीज माहवारी के समय को नियमित करने में सहायक है और यह आपके हार्मोन्स को भी बैलेंस करते है। यह लिगनेन से भरपूर होते है जो ज्यादा के हार्मोन्स को बढ़ने से रोकते है। साथ ही इसमें प्रयाप्त मात्रा में फैटी एसिड भी होता है जो वैकल्पिक हार्मोन्स के उत्पादन को प्रमोट करते है। इसके साथ ही गुड़ भी माहवारी के समय को नियमित बनाने में सहायक है।
1. एक मुट्ठी सूखे तिल के बीज ले।
2. उन्हें एक चम्मच गुड़ के साथ पीसकर बारीक़ पाउडर बनाये।
3. बने पाउडर का रोज़ 1 चम्मच सेवन करे और ध्यान रहे की इसे खाली पेट ही लेना चाहिए, इसके बाद माहवारी के कुछ दिनों पहले भी आप इसे ले सकते है।
केवल गुड़ के एक टुकड़े का सेवन करना भी अच्छा माना जाता है, इससे भी माहवारी नियमित आती है।
नोट – पीरियड्स के दौरान इसका उपयोग या सेवन ना करे।

4. एलोवेरा / Aloe Vera 
एलोवेरा हार्मोन्स को नियंत्रित कर प्राकृतिक रूप से माहवारी को नियमित बनाने में सहायक है।
1. एलोवेरा की एक पत्ती में से ताज़ा एलोवेरा जेल निकाले।
2. इसे 1 चम्मच शहद में मिलाये।
3. और नाश्ता करने से पहले रोज़ इसका सेवन करे।
4. इस प्रक्रिया को तक़रीबन 3 महीनो तक जरूर करे।
नोट – पीरियड्स के दौरान इस प्रक्रिया को ना करे।

5. कच्चा पपीता –
हरा, कच्चा पपीता भी पीरियड्स को नियमित बनाने में सहायक है। यह गर्भाशय ग्रीव में हड्डियों के फाइबर से जुड़कर माहवारी को नियमित रखता है।
माहवारी नियमित होने के साथ ही इससे माहवारी के समय होने वाला दर्द और चिंता भी कम होती है। कुछ महीनो तक रोज़ कच्चे पपीते के ज्युस का सेवन करना चाहिए। लेकिन पीरियड्स के दौरान इसका सेवन ना करे।

6. हल्दी / Turmeric 
शरीर में गर्मी पैदा करने के लिए हल्दी भी सहायक है। इससे आपके हार्मोन्स नियंत्रित रहते है और माहवारी भी नियमित आती है।
इसमें पाये जाने वाले एंटीस्पास्मोडिक और एंटीइंफ्लेमेटरी तत्व माहवारी के दर्द को कम करते है।
– एक चौथाई हल्दी को दूध, शहद या गुड़ के साथ ले। कई हफ़्तों तक इसका रोज़ सेवन करे। तब तक इसका सेवन करते रहे जब तक आपको अपनेआप में सुधार नही दिखाई देता।
– आप हल्दी को एक सप्लीमेंट की तरह भी ले सकते हो, लेकिन इसके लिए आपको अपने डॉक्टर की सलाह लेनी होगी।

7. धनिया बीज –
इसमें पाये जाने वाले जरुरी तत्वों की वजह से यह माहवारी के समय को नियमित बनाने में सहायक है।
– एक चम्मच धनिया बीज को 2 कप पानी में उबाले और तबतक उबालते रहे जब तक की 2 कप पानी 1 कप न हो जाये। इसके बाद बीज को पानी से अलग करे। और उस पानी को दीन में तीन बार जरूर पिए। ऐसा कुछ महीनो तक दोहराते रहे।
– कुछ महीनो तक आप धनिया का ज्युस भी पी सकते हो।

8. सौफ –
अनियमित पीरियड्स के लिए सौफ एज लाभदायक जड़ी-बुटी है। इसमें पाये जाने वाले एंटीस्पास्मोडिक तत्वों की वजह से यह पीरियड्स की कालावधि को नियमित रखती है। इसके साथ ही यह फीमेल सेक्स हार्मोन्स को भी नियंत्रित रखती है।
1. दो चम्मच सौफ के बीज को एक गिलास पानी में रातभर भिगोए रखे।
2. सुबह उठने के बाद पानी में से बीजो को अलग कर उसे पी ले।
3. एक महीने तक ऐसा रोज़ करते रहे या फिर तबतक इस प्रक्रिया को दोहराते रहे जब तक की पीरियड्स नियमित नही हो जाते।

9. पुदीना (पेपरमिंट)
सूखे पुदीने और शहद का मिश्रण एक बेहतर आयुर्वेदिक उपाय है, अनियमित पीरियड्स में यह सबसे असरदार दवा है। इसे लेने से नियमित कालावधि में ही पीरियड्स आने लगेंगे।
1. 1 चम्मच सूखे पुदीने के पाउडर को 1 चम्मच शहद में मिलाये।
2. कई हफ़्तों तक दिन में 3 बार इसका सेवन करे।

10. गाजर का ज्युस –
यह आयरन का अच्छा स्त्रोत है, अनियमित पीरियड्स के लिए गाजर का ज्युस एक अच्छा और आसान घरेलु उपाय है। सुखी गाजर भी महिलाओ के शरीर में उपर्युक्त हार्मोन का निर्माण करती है। अनियमित पीरियड्स से बचने के लिए महिलाओ ने 3 महीने तक रोज़ एक गिलास गाजर के ज्युस का सेवन करते रहना चाहिए। आप इसे दूसरे सब्जियों में मिलाकर उनका ज्युस भी पी सकते हो।

गाजर के ज्युस में आप मकई, बीट, सलाद और नगाड़े की डंडी भी शामिल कर सकते हो।

कहा जाता है की गन्ने का रस पिने से भी महिलाओ में अनियमित पीरियड्स की समस्या दूर होती है। इसके लिए महिलाओ ने चिंतामुक्त और भावनात्मक कमजोरियों से दूर रहना चाहिए। शरीर में कुछ गड़बड़ लगे तो तुरंत अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए और विशेषतः जब आप 40 साल की उम्र के हो जाओ तो आपको डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिए।

ये भी जरुर पढ़े :-

  1. गर्भावस्था खुदका ख़याल कैसे रखें ?
  2. स्तनों का आकार को कैसे बढ़ाये
  3. महिलाओं के अच्छे स्वास्थ्य के लिये टिप्स

अगर आपको हमारा अनियमित मासिक धर्म के उपाय | Home Remedies for Irregular Periods लेख अच्छा लगा तो जरुर हमें कमेन्ट के माध्यम से बताएं. और Facebook पर लाइक करके हमसे जुड़ें. धन्यवाद

3 Comments
  1. vidya says

    Shilpa Ji, aapne irregular mc yani irregular periods ke liye gharelu upay bahot badhiya tarikese diye hain, mujhe which days are best for pregnancy aur symptoms of pregnancy ke baremen janana hain please aap eske baremen jankari apni website par de.
    dhanyavad……………….

  2. Manoj kumar says

    Bahut acche upay bataye h……its really affected…..and result full….. …thanx for this suggestion…….

    Rx manoj kumar

  3. ashish says

    maasik dharm me soyabeen ka use karne se health sahi rahti hai.is time me soyabeen kaafi kaargar sidh hua hai.

Leave A Reply

Your email address will not be published.