बाबा रामदेव योगा | Baba Ramdev Yoga In Hindi

4
36271

बाबा रामदेव / Baba Ramdev एक प्रसिद्ध योगी है जो अपने अद्भुत योगा / Yoga के लिए जाने जाते है। बाबा रामदेव योगा / Baba Ramdev Yoga में अलग-अलग योग अवस्थाएं और विधि होती है जो अच्छी सेहत और शरीर को तंदरुस्त करने के लिए सहायक होती है। योग प्राणायाम करते समय बाबा रामदेव श्वास विधि का उपयोग करते है और शरीर के ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने में ध्यान केंद्रित करते है, ताकि मानवी शरीर के सभी अंग तंदरुस्त रहे।

बाबा रामदेव योगा / Baba Ramdev Yoga In Hindi
Baba Ramdev Yoga

बाबा रामदेव के प्राणायाम / Baba Ramdev Pranayam की बहोत सी स्टेप है जिन्हें अपनाकर आप घर बैठे ही प्राणायाम / Pranayam कर सकते हो। बाबा रामदेव के श्वास विधि के कुछ प्राणायाम निचे दिए गए है ।

1. कपालभाति प्राणायाम / kapalbhati Pranayama –

श्वास को अंदर-बाहर करने का कपालभाति प्राणायाम आपको पेट, डायजेशन और बहोत सी आंतरिक बीमारियो से बचाता है। जो लोग अपना वजन कम करना चाहते है उन्हें रोज़ कपालभाति प्राणायाम करना चाहिये। आइये इसके लाभ और इसे करने की विधि के बारे में जानने के लिये पढ़े – कपालभाति प्राणायाम

2. अनुलोम विलोम प्राणायाम / Anulom vilom Pranayama –

बारी-बारी से एक-एक नासिक छिद्र से श्वास लेने वाला अनुलोम विलोम प्राणायाम दिमाग और शरीर को साफ़ और स्वस्थ रखने के लिए काफी प्रभावशाली है। अनुलोम विलोम प्राणायाम से शरीर के आंतरिक भाग स्वस्थ रहते है और इस प्राणायाम को करने से अतिरिक्त चिंता भी दूर होती है। इसके लाभ और इसे करने की विधि के बारे में जानने के लिये पढ़े – अनुलोम विलोम प्राणायाम

3. उद्घित प्राणायाम / Udgeeth Pranayam –

इसमें श्वास के माध्यम से हम ॐ का जप करते है, जप धीरे, लंबा और कंठ से करना चाहिए। श्वास धीरे से अंदर ले और छोड़ते समय धीरे और लंबे समय तक ॐ का जप करे। धीरे-धीरे इसका अभ्यास करने के बाद आप बिना रुके श्वास छोड़ते समय 1 मिनट तक ॐ का जप कर सकते हो। श्वास बाहर निकालते समय जो ध्वनि उत्पन्न होती है वह आपके शरीर के आंतरिक भागो को छूकर उन्हें सचेत करती है। इसके लाभ और इसे करने की विधि के बारे में जानने के लिये पढ़े – उद्घित प्राणायाम

4. बाह्य प्राणायाम / Bahya Pranayama –

इसके नाम से ही स्पष्ट होता है की इस प्राणायाम को करते समय श्वास बाहर की जाती है इसीलिये इसे बाह्य प्राणायाम कहते है, बाह्य मतलब बाहर। इसे कपालभाति प्राणायाम के बाद किया जाना चाहिए। इसके लाभ और इसे करने की विधि के बारे में जानने के लिये पढ़े – बाह्य प्राणायाम

5. भ्रामरी प्राणायाम / Bhramari Pranayama –

इस प्राणायाम में श्वास लेते एवं छोड़ते समय मक्खी के गुनगुनाने जैसी आवाज़ निकलती है, इसीलिये इसे भ्रामरी प्राणायाम कहते है। भ्रामरी संस्कृत शब्द ‘भ्रमर’ से लिया गया है जिसका अर्थ काली भारतीय मक्खी से होता है। इसका परिणाम दिमाग पर होता है और यह प्राणायाम आपके दिमाग को शांत रखता है। इसके लाभ और इसे करने की विधि के बारे में जानने के लिये पढ़े – भ्रामरी प्राणायाम

6. भस्त्रिका प्राणायाम / Bhastrika pranayama –

इसमें तेज़ी से साँस ली जाती है यो दोगुनी तेज़ी से साँस छोड़ी जाती है। भस्त्रिका प्राणायाम युवाओ के लिए काफी लाभदायक है। जिस इंसान को ह्रदय विकार है उन्होंने धीरे-धीरे भस्त्रिका प्राणायाम का अभ्यास अवश्य करना ही चाहिए। इसके लाभ और इसे करने की विधि के बारे में जानने के लिये पढ़े – भस्त्रिका प्राणायाम

इन सभी प्राणायामो को यदि आप रोज़ करोगे तो आपका शरीर हमेशा मजबुत और तंदरुस्त बना रहेगा। बाबा रामदेव / Baba Ramdev का कोई भी प्राणायाम / Pranayam इंसान आसानी से घर बैठे भी कर सकता है, हर प्राणायाम को आपको कम से कम 5 से 10 मिनट तक तो करना ही चाहिए। कहा जाता है की हमें रोज़ कम से कम आधे से एक घंटे तक तो भी प्राणायाम करते रहना चाहिए।

बाबा रामदेव के योगा से होने वाले लाभ / Baba Ramdev Yoga Benefits –

जब बाबा रामदेव के योगा से होने वाले लाभों की बात की जाये तो यह अनगिनत और अमूल्य हो सकते है। इनमे से कुछ लाभ निचे दिए गए है –

1. रोज़ योगाभ्यास करने से फेफड़ो की क्षमता विकसित होती है, इसीलिये जो लोग अस्थमा और फेफडो संबंधी बीमारियो से जूझ रहे है उन्हें लिए बाबा रामदेव के प्राणायाम दवा की तरह ही है।

2. हाई ब्लड प्रेशर और लो ब्लड प्रेशर की समस्या को दूर करते है।

3. शरीर की आंतरिक शक्ति को बढाकर पाचन तंत्र को मजबुत बनाते है।

4. शरीर के अंग-अंग को तरोताजा और सक्रीय करते है।

5. ह्रदय संबंधी बीमारियो से बचाते है।

6. रक्त शुद्धिकरण का काम भी करते है और रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा को भी बढ़ाते है।

7. योगा करने से आपको अच्छी नींद आती है।

8. ब्लड सर्कुलेशन में सुधार आता है।

9. सभी बाह्य चिन्ताओ से मुक्ति दिलाते है।

10. ध्यान केंद्रित करने में सहायक।

11. डायजेशन को बढ़ाते है।

Surya Namaskar

Note :- अगर आपको हमारा बाबा रामदेव योगा / Baba Ramdev Yoga In Hindi  आर्टिकल अच्छा लगा तो जरुर Facebook पर लाइक करे. और हमसे जुड़े रहिये. हम आपके लिए और ऐसे Pranayam लायेंगे.

Please Note :- बाबा रामदेव योगा / Baba Ramdev Yoga बनाने के लिए दी गयी जानकारी को हमने हमारे हिसाब से बताया है.

SHARE
Hello friends, I am Shilpa K. founder of LifeStyleHindi.com, this website is the online source of Lifestyle information in Hindi, recipes in Hindi, beauty tips, health tips, and more lifestyle tips article in Hindi. we focused on delivering rich and evergreen subject that useful for Hindi reader.

4 COMMENTS

  1. Hello sir munhe , 3-4year se nightfall ho raha hai. Kapalbhati se theek ho sakta hai. Agar nahi theek ho sakta hai to kuch aur batai.

  2. Hello, Sir aapane yogo,pranayama ke bare behut sari azchi jankari di hai.sir muze Dr. ne kaha hai ki meri right hand ki ear ki nas kamajor ho gayi hai. aap se rs. hai ki muze konse yoga aur pranayama karana chahiye.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here